Showing 114501–114550 of 146872 results

Tuzuk-i-Jahangiri: or Memoirs of Jahangir by Henry Beveridge, Alexander Roger, and Nuru-d-din Jahangir

SKU: 9788184305386

Tuzuk-i-Jahangiri: or Memoirs of Jahangir’ is the autobiography of Mughal Emperor Jahangir. Also referred to as Jahangirnama, this book is written in Persian, and follows the tradition of his great-grandfather Babur, who had written the Baburnama; though Jahangir went a step further and besides the history of his reign, he includes details like his reflections on art, politics, and also information about his family.

Tweet Kahaniyan by Dr. Lata Kadambari Goel

SKU: 9789386870247

तभी उनमें से एक इतिहास मर्मज्ञ गिद्ध चिल्लाया—इतने नीच नहीं हैं हम, जब सीता मैया का अपहरण कर रावण उन्हें लंका ले जा रहा था, तब हमारे प्रपितामाह जटायुजी ने उनकी रक्षा करने हेतु लहूलुहान होकर अपने प्राणों का परित्याग कर दिया था और ये अखबार वाले? इन नीच लड़कों की तुलना हमसे करते हैं? एक बार फिर समवेत स्वरों में वे चिल्लाने लगे।
दूसरा चिल्लाया—हमारी दृष्टि की तारीफ तो सारी दुनिया करती है और एक ये हैं? कह…गुस्से में आकर अपने पंख फड़फड़ाने लगा।
तभी उनके बीच से एक जागरूक बूढ़ा गिद्ध उठकर बोला—तुम सबकी बातों में दम है मेरे बच्चो, तुम सभी को अपने हक में जरूर आवाज उठानी चाहिए। माना कि हम नरभक्षी हैं, मांस हमारा प्रिय आहार है पर हम तो मरों को खाते हैं, पर ये? हरामी की औलादें तो जिंदों को ही खा डालना चाहती हैं।
—इसी संग्रह से
जीवन की अव्यक्त अभिव्यक्ति को व्यक्त करने का प्रयास करती इन छोटी-छोटी ट्वीट कहानियों के माध्यम से लेखिका ने जीवन की छोटी-छोटी, लेकिन महत्त्वपूर्ण समस्याओं को सुलझाने के लिए जिंदगी का ताना-बाना बुनने का प्रयास किया है। इन कहानियों के कथ्य कैसे हैं? फंदे कैसे पड़े हैं? बुनावट कैसी है? कहानियों का भाषा-संयोजन कैसा है? यह देखना अब आपका काम है। वैसे भी चिड़ियों के समान ये कहानियाँ भी चहककर ट्वीट-ट्वीट कर रही हैं।
ये छोटी-छोटी कहानियाँ आपको अपने आसपास के परिवेश, अपने संबंधों, अपने मनोभावों का आईना ही लगेंगी।

Twelfth Night; Or, What You Will by William Shakespeare

SKU: 9788184305023

Twelfth Night, or What You Will is a comedy by William Shakespeare, believed to have been written around 1601–02 as a Twelfth Night’s entertainment for the close of the Christmas season.