Showing 10051–10100 of 10123 results

Ye Jo Hai Zindagi by Oprah Winfrey

SKU: 9789351868743

मनुष्य के दिल-दिमाग का बारीक अध्ययन कर जीवन जीने के व्यावहारिक सूत्र बताने और सकारात्मक सोच विकसित करने में दक्ष विश्वप्रसिद्ध व्यक्तित्व ओपरा विनफ्रे की यह पुस्तक पठनीयता से भरपूर है। सालों से उन्होंने सर्वाधिक रेटिंग वाले अपने बहुचर्चित टॉक शो के जरिए इतिहास रचा है, अपना स्वयं का टेलीविजन नेटवर्क शुरू किया है, और देश की पहली अफ्रीकी-अमेरिकी अरबपति बनी हैं। उन्हें हॉर्वर्ड यूनिवर्सिटी से मानद उपाधि और प्रेसीडेंशियल मेडल फॉर फ्रीडम से सम्मानित किया जा चुका है। अपने सारे अनुभवों से उन्होंने जीवन के सबक चुने हैं, जो उन्होंने चौदह सालों से ‘ओ-ओपरा मैग्जीन’ के लोकप्रिय स्तंभ ‘वॉट आय नो फॉर श्योर’ में प्रस्तुत किए हैं और जो हर माह पाठक को प्रेरित और आनंदित करते हैं।
अब पहली बार इन वैचारिक रत्नों का पुनर्लेखन, अद्यतन संग्रह करके एक पुस्तक में पेश किया गया है, जिसमें ओपरा विनफे्र ने अपने आंतरिक उद्गार प्रकट किए हैं। प्रसन्नता, लचक, संवाद, आभार, संभावना, विस्मय, स्पष्टता और शक्ति के भावों के रूप में संगठित ये लेख दुनिया की सर्वाधिक असाधारण औरत के दिल और दिमाग की दुर्लभ, सशक्त और आंतरिक झलक प्रस्तुत करते हैं। साथ ही पाठकों को सर्वोत्तम बनने में मार्गदर्शक की भूमिका भी निभाते हैं। ‘ये जो है जिंदगी…’ में ओपरा विनफ्रे निर्भीक, मर्मस्पर्शी, प्रेरक और बार-बार परिहासपूर्ण शब्दों का इस्तेमाल करती हैं, जो सत्य की ऐसी जगमगाहट देते हैं कि पाठक उन्हें बार-बार पढ़ना चाहते हैं।
प्रस्तुत हैं भारत की किसी भी भाषा में जिंदगी का सार बतानेवाले ओपरा विनफ्रे के उद्गार।

Yeh Ram Kaun Hai? by Neerja Madhav

SKU: 9789383110421

एक तरफ एक विशाल भारतीय जनसमुदाय अयोध्या, काशी और मथुरा के मंदिरों को लेकर भावुक है, दूसरी तरफ सत्ताधारी वोट बटोरने के चक्कर में इन मंदिरों पर हुए बर्बर आक्रमण और ऐतिहासिक सत्य को सत्य कहने में भी हिचकिचा रहे हैं तथा अल्पसंख्यक हितों की रक्षा के नाम पर एक चोट को सहलासहला कर कैंसर में बदल देना चाहते हैं। पड़ोसी देशों में पुनरुद्धार या विकास के नाम पर धड़ाधड़ राम, कृष्ण एवं शिव मंदिरों को ढहाया जा रहा है। शीतला माता मंदिर या ढाकेश्वरी माता के मंदिरों का स्थानांतरण किया गया है। ऐसा नहीं कि ये हमले आज ही हो रहें हैं। दरअसल इन हमलों का इतिहास हजारों वर्ष पुराना है। ईश्वर, अल्लाह और गॉड को एक ही परम सत्ता के भिन्नभिन्न नाम माननेवाला हिंदू अपनी उदारता और विश्वास की व्यापकता के कारण बहुदेववादी भी है, मूर्तिपूजक भी है और साथ ही परम सत्ता की मनोरम अभिव्यक्ति प्रकृति को भी उसी का एक रूप मान पूजता है। यह हिंदू आचारविचार की व्यापकता है। कणकण में व्याप्त एक अव्यक्त सत्ता।… मंत्रों और ऋचाओं की ऊर्जा से संपूरित मंदिर और मंदिर क्षेत्र ध्वस्तीकरण अथवा आक्रमण की बारंबारता के बिंदु बने।’’
—इसी संग्रह से
ललित निबंधों के माध्यम से जनजन के हृदय में बसे राम को देखने, जानने और अनुभव करने का एक सर्वथा अनूठा प्रयोग है यह पुस्तक, जो हर आयु वर्ग के पाठकों को समान रूप से रुचिकर लगेगी।

Yellowstone National Park: Six Early Pieces

Lost in the wilderness of The Yellowstone for over a month, nearly dying of starvation and wild animal attack, despairing of ever finding his way out. Here are six relatively unknown early pieces about the U.S.A.?s first national park. The first is a U.S. Geological booklet about initial exploration and Congress?s institution of the park. The next two are articles from Scribner?s Monthly, 1871, a very popular magazine of the time, describing the park?s features (vol 2 #1 pp 1-17 and vol 2 #2 pp 113-128) . The fourth piece is a narrative by the leader of the exploratory expedition described in the first piece, H.V. Hayden (Scribner?s Monthly, vol 3#2 pp 388-396, February 1872) The fifth piece is a lecture on the park by a very popular lecturer and writer, 1900 (John L. Stoddard?s Lectures, vol 10). The last piece is a man?s first-person narrative of his being lost in the Yellowstone wilderness for thirty-seven days, 1871, Scribner?s Monthly again (vol 3#1). – Summary by david wales

Yes I Can by Dr. Sumer Sethi

SKU: 9789390923274

Dr. Sumer Sethi is a Radiologist, Educator, Writer and a Motivational Speaker.
He inspires and encourages individuals to realise their true potential. His varied experience in medical profession, teaching and understanding has put many doctors on the path of growth and fulfillment.
Dr. Sumer’s inspirational titles like Fire in the Belly & Leap of Faith, are the best sellers and have been appreciated a lot by readers.

Yes You Can by Ashutosh Karnatak

SKU: 9788184302554

“YES, YOU CAN emphasizes on different areas to be honed so that one can lead a successful life and reap maximize profit. Humans have an inherent habit of blaming others or circumstances for their failures. To overcome this, the individual should analyze himself and make the necessary corrections in attitude and thinking process. If one is able to understand and amend oneself, he/she would be able to face the world more effectively. This self-help book indicates that if a person develops plus or positive attitude in life then he/she can face any problem and situation. In this book, emphasis is given to the role of the mind, and techniques to sharpen it. This book focuses on self-improvement, based on the premise that one should endeavor to control oneself, rather than try to change others. This book will make you realise that: One can do, whatever he wants. One can have control on himself. To be successful one should have “Fight Back Tendencies”. The mind needs to be maintained in a positive frame. Optimism till the end.”

Yet Again by Max Beerbohm

SKU: 9788184306442

“Till I gave myself the task of making a little selection from what I had written since last I formed a book of essays, I had no notion that I had put, as it were, my eggs into so many baskets—The Saturday Review, The New Quarterly, The New Liberal Review, Vanity Fair, The Daily Mail, Literature, The Traveller, The Pall Mall Magazine, The May Book, The Souvenir Book of Charing Cross Hospital Bazaar, The Cornhill Magazine, Harper’s Magazine, and The Anglo-Saxon Review…Ouf! But the sigh of relief that I heave at the end of the list is accompanied by a smile of thanks to the various authorities for letting me use here what they were so good as to require.” -Preface

Yoddha Sannyasi : Vivekanand by Vasant Potdar

SKU: 9789350481486

योद्धा संन्यासी विवेकानंद—वसंत गोविंद पोतदार

”उठिए, जागिए, मेरे देशबंधुओ! आइए, मेरे पास आइए। सुनिए, आपको एक ज्वलंत संदेश देना है। इसका अर्थ यह नहीं है कि मैं कोई अवतार हूँ। ना-ना, मैं अवतार तो नहीं ही हूँ। कोई दार्शनिक अथवा संत भी नहीं हूँ। मैं हूँ, एक अति निर्धन व्यक्‍ति, इसीलिए सारे सर्वहारा मेरे दोस्त हैं। मित्रो! मैं जो कुछ कह रहा हूँ, उसे ठीक से समझ लीजिए। समझिए, आत्मसात् कीजिए और उसे जनमानस तक पहुँचाइए। घर-घर पहुँचाइए मेरे विचार। मेरे विचार-वृक्ष के बीजों को दुनिया भर में बोइए। तर्क की खुरदुरी झाड़ू से अंधविश्‍वास के जालों को साफ करने का अर्थ है शिक्षा। संस्कृति और परंपरा, दोनों एकदम भिन्न हैं, इसे स्पष्‍ट करने का नाम है शिक्षा।’ ’
स्वामी विवेकानंद के बहुआयामी व्यक्‍तित्व और कृतित्व के विषय में उपर्युक्‍त कथन के बाद यहाँ कुछ अधिक कहने की आवश्यकता नहीं है। हमारे आज के जो सरोकार हैं, जैसे शिक्षा की समस्या, भारतीय संस्कृति का सही रूप, व्यापक समाज-सुधार, महिलाओं का उत्थान, दलित और पिछड़ों की उन्नति, विकास के लिए विज्ञान की आवश्यकता, सार्वजनिक जीवन में नैतिक मूल्यों की आवश्यकता, युवकों के दायित्व, आत्मनिर्भरता, भारत का भविष्य आदि-आदि। भारत को अपने पूर्व गौरव को पुन: प्राप्‍त करने के लिए, समस्याओं के निदान के लिए स्वामीजी के विचारों का अवगाहन करना होगा।
मूल स्रोतों और शोध पर आधारित यह पुस्तक ‘योद्धा संन्यासी’ हर आम और खास पाठक के लिए पठनीय एवं संग्रहणीय है।

Yog Aur Yogasan by Swami Akshya Atmanand

SKU: 9789383111886

महर्षि पतंजलि ने एक सूत्र दिया है- ‘ योगश्‍च‌ित्त: वृत्ति निरोध: ‘ । इस सूत्र का अर्थ है-‘ योग वह है, जो देह और चित्त की खींच-तान के बीच, मानव को अनेक जन्मों तक भी आत्मदर्शन से वंचित रहने से बचाता है । चित्तवृत्तियों का निरोध दमन से नहीं, उसे जानकर उत्पन्न ही न होने देना है । ‘
‘ योग और योगासन ‘ पुस्तक में ‘ स्वास्थ्य ‘ की पूर्ण परिभाषा दी गई है । स्वास्थ्य की दासता से मुक्त होकर मानवमात्र को उसका ‘ स्वामी ‘ बनने के लिए राजमार्ग प्रदान किया गया है ।
‘ स्वास्थ्य ‘ क्या है? ‘ स्वस्थ ‘ किसे कहते हैं?
मृत्यु जिसे छीन ले, मृत्यु के बाद जो कुछ हमसे छूट जाए वह सब ‘ पर ‘ है, पराया है । मृत्यु भी जिसे न छीन पाए सिर्फ वही ‘ स्व ‘ है, अपना है । इस ‘ स्व ‘ में जो स्थित है वही ‘ स्वस्थ ‘ है ।
कहावत है कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ आत्मा का वास होता है । यदि शरीर ही स्वस्थ नहीं होगा तो आत्मा का स्वस्थ रहना कहाँ संभव होगा । इस पुस्‍तक को पढ़कर निश्‍चय ही मन में ‘ जीवेम शरद: शतम् ‘ की भावना जाग्रत होती है ।
प्रस्तुत पुस्तक उनके लिए अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है जो दवाओं से तंग आ चुके हैं और स्वस्थ व सबल शरीर के साथ जीना चाहते हैं ।

Yog Dwara Swastha Jeevan by Bks Iyengar

SKU: 9789350480946

योग द्वारा स्वस्थ जीवन—बी.के.एस. आयंगर

‘योग’ एक तपस्या है। शरीर को निरोग एवं सशक्‍त बनाने की एक संपूर्ण विधि है ‘योग’। योग असाध्य रोगों को भी दूर भगाता है। आज संसार भर के लोग योग और इसके चमत्मकारी प्रभावों के प्रति आकर्षित हैं। विश्‍वप्रसिद्ध योगगुरु बी.के.एस. आयंगार की इस पुस्तक ‘योग द्वारा स्वस्थ जीवन’ में आसन किस प्रकार किए जाएँ, किस प्रकार होनेवाली गलतियों को टाला जा सकता है और अधिकतम लाभ प्राप्‍त किया जा सकता है, इन बातों को आम लोगों तक पहुँचाने का प्रयास किया गया है।
योग के द्वारा कैसे व्यक्‍तियों का उपचार किया जाए, इसका त्रुटिहीन अभ्यास करते हुए अधिकाधिक लाभ कैसे प्राप्‍त किया जाए—इसका सचित्र वर्णन किया गया है।
पुस्तक का उपयोग करना आसान व सरल हो, इस दृष्‍टि से पुस्तक के अंत में दो परिशिष्‍ट जोड़े गए हैं। परिशिष्‍ट 1 में आसन क्रमांक और आसनों के नाम देकर उनका वर्गीकरण प्रस्तुत किया गया है। परिशिष्‍ट 2 में किस रोग में किस आसन से लाभ होगा, उनका वर्णन है।
स्वस्थ जीवन का मार्ग दिखानेवाली सरल-सुबोध भाषा में योग पर एक अनुपम कृति।

Yog Vishwa Ko Bharat Ki Anmol Bhent by Ravi Kumar

SKU: 9789351868798

प्राचीन भारत ने हमें गणित, बीजगणित, ज्यामिति, त्रिकोणमिति, शून्य, दशमलव, ज्योतिष, औषधि, व्याकरण, जातक कथाएँ और अनेक नैतिक मूल्यों का आधार दिया है। आधुनिक विश्व संस्कृत, भगवद्गीता और योग से लाभ उठा रहा है।
योग के अभ्यास को हमारे ऋषियों और संतों द्वारा शरीर, मन और आत्मा के संपूर्ण स्वास्थ्य की प्राप्ति के लिए सहज ज्ञान द्वारा प्राप्त करके दिशा दी गई, सिद्ध और संहिताबद्ध किया गया। योग लोगों को अशांति के बीच शांति प्राप्त करने में सहायता करता है। ये हमारे शरीर, मन और आत्मा में स्वास्थ्य और संतुलन लाता है। तन स्वस्थ हो, मन स्वस्थ हो, सब नीरोग हों—यही योग का संदेश है।
11 दिसंबर, 2014 को 193 सदस्यों की संयुक्त राष्ट्र महासभा ने प्राचीन भारत के स्वास्थ्य एवं कल्याण की ओर समग्र दृष्टिकोण को मान्यता देते हुए आम सहमति से 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने पर सहमति प्रदान की।
योग का संबंध आज पूरे विश्व से है। विश्व के कई नेता, खेल-कूद और फिल्मी दुनिया के सितारे और संगीत जगत् के दिग्गज विभिन्न कारणों से अपने दैनिक जीवन में योगाभ्यास करते हैं।
योग की वैश्विक स्वीकार्यता और उसके उपयोग की व्यापकता को रेखांकित करने के उद्देश्य से यह पुस्तक लिखी गई है।
हमें विश्वास है कि यह पुस्तक लोगों को योग की ओर आकर्षित करेगी और जन-जन योग को अपनाकर अपने जीवन को सुखमय-तनावमुक्त बना पाएँगे।

Yoga and Meditation by Stephen Knapp

SKU: 9788184305067

Sages of India have been practicing the science of Yoga for thousands of years. There are numerous benefits of yoga. On the mental level, it strengthens concentration, determination, and builds a stronger character that can more easily sustain various tensions in our lives. The assortment of Asanas also provides stronger health and prevents various diseases. It improves physical strength, endurance and flexibility. Its ultimate purpose, however, is to purify and raise our consciousness to a level in which we can directly perceive our real identity and the spiritual dimension. Then we can have our own spiritual experiences.
The main objective of this book is to create more informed and conscious practitioners of Yoga. ‘Yoga and Meditation’ discusses the benefits of Yoga, both physical and spiritual, its types and methodology in detail. The present book is a guide to not only Asanas that help treating various diseases, but also to the methods for using important mantras to enhance the effects of Yoga.

Yoga Aur Aahar Dwara 100 Saal Kaise Jiyen by Bijoylaxmi Hota

SKU: 9789353227104

यह पुस्तक समग्रता में प्रायः सभी सामान्य एवं असामान्य रोगों से बचाव के उपाय बताती है। पाचन समस्या, जैसे—एसिडिटी, दस्त, कब्ज और बवासीर; साँस की समस्याएँ, जैसे—दमा, श्वास शोथ और साधारण सर्दी-जुकाम; स्नायु संबंधी रोग, जैसे अनिद्रा, घबराहट इत्यादि—पार्किंसन रोग और दिमागी धक्का; अन्य बीमारियों, जैसे—एलर्जी, ओस्टोपोरोसिस और वर्टिगो के विषय में यह मार्गदर्शिका आपको सही आहार और योग अभ्यासों के बारे में बताती है, जो आपको रोग-मुक्त कर देंगे। लेखिका ने प्रत्येक अभ्यास के साथ उसका असर भी दिया है, साथ ही ये विष-मुक्त होने के एवं ध्यान के विभिन्न यौगिक तरीके, योगासन, स्वादिष्ट एवं स्वास्थ्यवर्धक भोजन की विधियाँ भी बताती हैं।
पैंतीस वर्षों से अधिक की अनुभवी प्रख्यात योग चिकित्सक की यह संपूर्ण पुस्तक निश्चित रूप से आपके स्वास्थ्य एवं आहार से संबंधित जरूरतों के बारे में प्राकृतिक वस्तुओं एवं तकनीक के माध्यम से बताएगी।

Yoga for Kids by Anoop Gaur

SKU: 9789351869764

As man is becoming a machine due to the glamour of materialism and is being compelled to lead an unhealthy and tense life, the world is getting attracted towards yoga for attaining peaceful, healthy and tension-free life.
In practical life, husband-wife, father-son, brothers-sisters are all external agents. In contrast, the body, the mind, intellect, ego, etc., are all internal agents which are closer to life. In a conflict, it is the internal agent, which comes out victorious. Keeping these internal agents under one’s control is called ‘Yoga’. For physical and mental health, Yoga is necessary. Hence, this book has been specially prepared for kids and students by and large.
Yogasanas are introduced, their meaning, their effects on mind and body, the time required to perform each yoga and its advantages are explained in a very simple language. The pictures given are a speciality of this book, as they clearly express what the writer wants to say.
We are sure that this book will contribute a great deal in keeping our young readers healthy and happy.

Yoga Lessons For Developing by A. P. Mukerji

SKU: PP-02020-0003-32

Yoga Lessons for Developing Spiritual Consciousness by A. P. Mukerji. This antiquarian volume constrains a biography of Edward Geoffrey, 14th Earl of Derby.

Yogigatha by Shantanu Gupta

SKU: 9789352669912

यह जीवनी आपको अपने चार खंडों में योगी आदित्यनाथ के जीवन के चार पहलुओं से होकर ले जाती है। पुस्तक का आरंभ योगी के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के वर्तमान रूप, 2017 की उत्तर प्रदेश की चुनावी राजनीति, यू.पी. का सी.एम. चुने जाने के तथ्यों और पंचम तल (यू.पी. के सीएम का दफ्तर) से होता है। दूसरा खंड आपको योगी आदित्यनाथ के पाँच बार के सांसद के रूप में लंबे कार्यकाल, चुनावी जीत, संसद् में उनकी कुशल भागीदारी, उनके तथाकथित विवादित भाषणों की सच्चाई, लव-जिहाद की उनकी सोच के पीछे का तर्क, घर वापसी, हिंदू युवा वाहिनी और भाजपा के साथ उनके संबंध से परिचित कराता है। तीसरे खंड में लेखक अपने पाठकों को गोरखनाथ मठ के महंत अवेद्यनाथ, योगी आदित्यनाथ, उनकी कठोर यौगिक दिनचर्या, नाथ पंथ के गुरुओं और कई दशकों से मठ की सामाजिक-राजनीतिक सक्रियता से होकर ले जाते हैं। आखिरी खंड में लेखक अपने पाठकों को उत्तराखंड के इलाके में पले अजय सिंह बिष्ट के बचपन से जुड़ी कुछ बेहद दिलचस्प और उनके अपनों के मुँह से कही बातों के साथ छोड़ देते हैं, जो गायों, खेतों, पहाड़ों, नदियों के बीच पला-बढ़ा और आगे चलकर एक सांसद और मुख्यमंत्री बना।

You Are Born to Blossom by A.P.J. Abdul Kalam/ Arun Tiwari

SKU: 9788184303506

This book is an account of how Dr. Kalam visualizes Information and Communication Technology mining the rural talent. Here, Dr. Kalam presents his dream of schools in India at 2020 as symbiotic nerve centres connecting teachers, students and community; personifying knowledge that exists in the world. He also makes a clarion call to accelerate the process of societal transformation. This would involve raising the standards of governance and safeguarding the sanctity of public institutions. The book uses the metaphor of a tree to describe the process of knowledge bearing fruits of prosperity in the contemporary globalised world where different phases, formative, adult working life, and post-50 experienced senior citizens, call for different kinds of learning. The book refers to a contextual contribution of a large number of Indian scientists and artists and proves that there is no age bar to blossom. He advocates creation of conditions that favour growth of diverse individual talents akin to a garden and calls for a scientific mind-set guided by conscience, consensus and by actions that take our social and moral values into account in building our own systems.

You Can Heal Your Life by Louise L Hay

SKU: 9788173156809

‘यू कैन हील योर लाइफ’—इस अद्भुत पुस्तक के माध्यम से लुइस एल. हे आत्मविकास की यात्रा को पाठकों के साथ बाँट रही हैं। उनका कहना है कि हमारा जीवन कितना भी निम्न स्तरीय क्यों न रहा हो, हम अपने जीवन को पूरी तरह बदलकर उसे और ज्यादा बेहतर बना सकते हैं।
इस पुस्तक में सबकुछ है—जीवन, उसके मूल्य और अपने आप पर कैसे स्वाध्याय करें। अपने बारे में आपको जो भी जानने की आवश्यकता है, वह सब इसमें है। इसमें रोग के संभावित मानसिक कारणों की संदर्भ मार्गदर्शिका है, जो वास्तव में उल्लेखनीय और अनूठी है। किसी निर्जन द्वीप पर कोई व्यक्ति इस पुस्तक को पा जाए तो वह अपने जीवन को बेहतरीन बनाने के लिए जो भी जानना चाहता है, वह सब इससे सीख-समझ सकता है।
प्रत्येक अध्याय एक निश्चय के साथ आरंभ होता है और सभी अध्याय एक उपचार के साथ समाप्त होते हैं। जब आप इससे संबंधित जीवन के भाग पर कार्य करेंगे तो प्रत्येक अध्याय उपयोगी सिद्ध होगा। यह चेतन को परिवर्तित करने के लिए तैयार सकारात्मक विचारों का प्रवाह है।
यदि आप पुस्तक के क्रमानुसार दिए गए अभ्यास निष्ठापूर्वक करेंगे तो पुस्तक के समाप्त होने तक निश्चय ही अपने जीवन में परिवर्तन महसूस कर रहे होंगे।
विश्व की सर्वाधिक बिक्रीवाली पुस्तकों में शामिल।

You Too Can Be Successful by Ravindra Nath Prasad Singh

SKU: 9789390923434

This book will help you to move forward in every sphere by making you aware of the importance of qualities like effective measures, strong will, dedication, responsibility, discipline, self-confidence, character, patience and courage towards achieving your goals. You should only have faith to imbibe the above things. You can also write a new chapter in life. You too will realise your dreams by imbibing the important information given in this book. You don’t have to worry about the time you wasted. It has been said—“Life is nothing, it is the name of smiling every moment.”
The unputdownable book entitled ‘You too can be successful’ has been written in a lucid and simple manner without any cumbersome syntax. This book is an amazing read to all the students who are in pursuit of cracking their cherished goal and also for every individual who strives to be successful in life.

Young Crow Raider by Francis Lynde Kroll

SKU: 6235989716091

Bent Arrow drove himself forward with all his strength. For a few steps he seemed to be closing the gap between himself and the two older boys ahead. The next moment the old pain beat up through his right leg. He had to choke back a gasp as he nearly stumbled.
He forced himself to keep running, although the pain had slowed him so much that the two ahead were rapidly outdistancing him. From the corner of his eye, he saw Sly Fox and Laughing Deer draw even with him and try to pass. In spite of the pain in his leg, Bent Arrow wasn’t going to be last. He lunged forward, barely managing to cross the finish line ahead of the other two.

Young India by Lala Lajpat Rai

SKU: 9788184303902

The book reflects the study of the nationalist movement in India by veteran freedom fighter and our foremost leader Lala Lajpat Rai. It covers India from 1757 to 1857 A.D. and then from the mutiny of 1857 to 1905 A.D. It was revised further by the author to the happenings up to the year 1915. It gives a detailed account of the socio-economic condition and the spread of awakening for freedom among the masses. It decimates the arguments of British colonialism of having a welfare state in India. It is an important tool for the study of Indian independence.
A great read for the current generation by one of the tallest freedom fighters of India.

Young Visitor to Mars by Richard M. Elam

SKU: 6235989716549

The rocket ship Shooting Star powered through the black deeps of space like a silver bullet. Inside a room of their parents’ suite aboard the vessel, Ted Kenton and his sister Jill sat before a large window looking out at the wonders of space in the year A.D. 2003.

Your Faith is Your Fortune by Neville Goddard

SKU: 6235989716662

In the beginning was the unconditioned awareness of being, and the unconditioned awareness of being became conditioned by imagining itself to be something, and the unconditioned awareness of being became that which it had imagined itself to be; so did creation begin.

Your Forces and How to Use Them by Christian D. Larson

SKU: 6235989716167

From the Foreword: ‘The purpose of the following pages will be to work out the subject chosen in the most thorough and practical manner; in brief, to analyze the whole nature of man, find all the forces in his possession, whether they be apparent or hidden, active or dormant, and to present methods through which all those forces can be applied in making the life of each individual richer, greater and better. To make every phase of this work as useful as possible to the greatest number possible, not a single statement will be made that all cannot understand, and not a single idea will be presented that any one cannot apply to every-day life.’

Your Invisible Power by Genevieve Behrend

SKU: PP-02020-0003-30

These pages have been written with purpose and hope that their suggestions may furnish you a key to open up the way to the attainment of your desires, and to explain that Fear should be entirely banished from your effort to obtain possession of the things you desire.

Your Mind and How to Use It: A Manual of Practical Psychology by Atkinson

SKU: 9788184306056

First published in the year 1911, the present book ‘Your Mind and How to Use It: A Manual of Practical Psychology’ by renowned psychologist Atkinson is an apprehensive guide to applied psychology which would be useful for those studying psychology or practising it professionally.

Your Miracle in Making by Dr. Himanshu Bavishi

SKU: 9789389982725

‘A Safe Pregnancy and Genius Child does not just Happen’ but is a collective effort of conscious, well informed, actively involved parents and their medical service providers. Pregnancy is the most enjoyable phase in the life of a woman. A lot of preparations are to be done for the new arrival. Correct scientific information in concise, easy to understand and utilisable format empowers pregnant women by gaining the knowledge on physical and emotional changes, common symptoms and remedies, ideal nutrition, child development, proper ante and postnatal care and child birth. The book is an extract of latest science ‘Garbh Sanskar’ with its modern relevance. ‘Your Miracle in Making’, published in four languages—English, Hindi, Gujarati and Marathi, is a book very meticulously prepared for the ‘to be parents’. This book on pregnancy would tell a couple everything they need to know about the most important event of their life.

Your United States: Impressions of A First Visit by Arnold Bennett

SKU: 9788184307075

This is a pre-1923 historical reproduction that was curated for quality. Quality assurance was conducted on each of these books in an attempt to remove books with imperfections introduced by the digitization process. Though we have made best efforts – the books may have occasional errors that do not impede the reading experience. We believe this work is culturally important and have elected to bring the book back into print as part of our continuing commitment to the preservation of printed works worldwide.

Your Word is Your Wand by Florence Scovel Shinn

SKU: 6235989716178

A self help book from the author of ‘The Game of Life’. This is basically a book of affirmations about various things like love, sickness, happiness, etc. Florence Scovel Shinn believes that words are very powerful and that by using affirmations, you can alter the way things happen in your life.

Youth and the Bright Medusa by Willa Cather

SKU: 6235989715113

Don Hedger had lived for four years on the top floor of an old house on the south side of Washington Square, and nobody had ever disturbed him. He occupied one big room with no outside exposure except on the north, where he had built in a many-paned studio window that looked upon a court and upon the roofs and walls of other buildings. His room was very cheerless, since he never got a ray of direct sunlight; the south corners were always in shadow. In one of the corners was a clothes closet, built against the partition, in another a wide divan, serving as a seat by day and a bed by night. In the front corner, the one farther from the window, was a sink, and a table with two gas burners where he sometimes cooked his food. There, too, in the perpetual dusk, was the dog’s bed, and often a bone or two for his comfort.

Youth by Isaac Asimov

SKU: 9788184305484

Youth’ is a short novel by Isaac Asimov. It first got published by the Space Science Fiction in the May 1952 issue, and then, was reprinted in the 1955 collection titled ‘The Martian Way and Other Stories’. ‘Youth’ is one of the rare Asimov stories with alien characters.

Youth: Its Education, Regimen, and Hygiene by G. Stanley Hall

SKU: 9788184307283

I have often been asked to select and epitomize the practical and especially the pedagogical conclusions of my large volumes on Adolescence, published in 1904, in such form that they may be available at a minimum cost to parents, teachers, reading circles, normal schools, and college classes, by whom even the larger volumes have been often used. This, with the coöperation of the publishers and with the valuable aid of Superintendent C.N. Kendall of Indianapolis, I have tried to do, following in the main the original text, with only such minor changes and additions as were necessary to bring the topics up to date, and adding a new chapter on moral and religions education. For the scientific justification of my educational conclusions I must, of course, refer to the larger volumes. The last chapter is not in “Adolescence,” but is revised from a paper printed elsewhere. I am indebted to Dr. Theodore L. Smith of Clark University for verification of all references, proof-reading, and many minor changes.

Youtube Se Kamayen Croreon by Mahesh Dutt Sharma

SKU: 9789390900510

आज इंटरनेट पर ऑनलाइन कमाई के अनेक साधन मौजूद हैं और दुनिया भर के लाखों लोग घर बैठे इन साधनों से लाखों-करोड़ों की कमाई के साथ-साथ नाम भी कमा रहे हैं।
सोशल मीडिया साइट यू-ट्यूब पर आप अकसर रोचक वीडियो देखते होंगे। क्या आपको पता है कि जैसे ही आप एक पूरा वीडियो देख लेते हैं तो वीडियो बनानेवाले के खाते में कुछ रुपए जाने की संभावना बढ़ जाती है। आप भी यू-ट्यूब पर वीडियो बनाकर लाखों रुपए कमा सकते हैं, बशर्ते आप अपनी ऑडियंस को सही तरीके से समझ पाएँ। सोशल मीडिया साइट पर युवाओं का बढ़ता रुझान यू-ट्यूब पर वीडियो बनाकर अपलोड करनेवालों के लिए एक फायदे का सौदा बनता जा रहा है।
इसमें रचनात्मकता, रोमांच, नाम और दाम सबकुछ है। पता नहीं, आपका कौन सा वीडियो लोगों को भा जाए और लाखों-करोड़ों में वायरल होकर वह आपको रातोंरात स्टार बना दे।
यह पुस्तक आपको यू-ट्यूब चैनल बनाकर धन कमाने के व्यावहारिक सूत्र बताने के साथ-साथ अन्य ऑनलाइन स्रोतों को भी आय का साधन बनाने के गुरुमंत्र बताती है।

Yug Kranti Ki Prabhat Vela by Rajesh

SKU: 9788177212518

व्यवस्थापरिवर्तन या समाजपरिवर्तन की प्रत्येक चेष्टा, ईश्वरेच्छा की उपेक्षा कर असफल और दिशाहीन हो जाने के लिए अभिशप्त है।
यह कृति समाजपरिवर्तन की दिशा में सक्रिय विचारों का, उनके विकसित होते गए परिप्रेक्ष्य में संयोजन मात्र है। इन विचारों का स्रोत महापुरुषों की वे शिक्षाएँ हैं, जिनमें एक नए मनुष्य के सृजन को संभव बनानेवाले कारकतत्त्वों का उद्घाटन हुआ है। समग्र परिवर्तन का आह्वान करती ये शिक्षाएँ मनुष्य और समाज के आमूल रूपांतरण की दिशा का बोध कराने वाली हैं। इन सबके केंद्र में वर्तमान जीवन है। युद्ध, विखंडन, स्पर्धा, हिंसा, स्वार्थ और लोलुपता से भरी दुनिया को अस्वीकार करने का अर्थ है—मानस एवं हृदय के आमूलचूल परिवर्तन की दिशा में नए सिरे से विचार करना। इस प्रकार के विचारों को सुव्यवस्थित रूप में सामने लाने का यह विनम्र प्रयास है। इस क्रम में रामकृष्ण परमहंस, महात्मा गांधी, रवींद्रनाथ ठाकुर, श्रीअरविंद, रमण महर्षि, आचार्य विनोबा भावे, जे. कृष्णमूर्ति, रामनंदनजी प्रभृति महापुरुषों की शिक्षाओं को यहाँ विशेष रूप में स्थान मिला है।
नवजागरण का मार्ग प्रशस्त करनेवाली सभी आयुवर्ग के पाठकों के लिए समान रूप से पठनीय पुस्तक।

Yug Nirmata Jrd Tata by Bakhtiar K Dadabhoi

SKU: 9788173156984

कुशल पायलट, नवप्रवर्तक उद्यमी, संस्थान निर्माता, परमार्थी व महान् जन-प्रबंधक जे. आर.डी टाटा उन राष्‍ट्र- निर्माताओं में थे, जो आबाल-वृद्ध सभी के प्रेरणा-स्रोत रहे हैं ।
एक उद्योगपति के रूप में उनको टाटा उद्योग समूह को अंतरराष्‍ट्रीय पटल पर लाने का श्रेय प्राप्‍त है । श्री टाटा विज्ञान व कलाओं के संरक्षक रहे । साहित्य, ललित-कलाओं, तेज रफ्तार कारों, स्कीइंग एवं उड़ान में उनकी गहरी रुचि थी । उन्होंने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, नेशनल सेंटर फॉर द परफार्मिग आर्ट्स एवं अन्य अनेक संस्थानों के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ।
जे. आर.डी टाटा को जन-प्रेरक के रूप में सदा याद किया जाएगा । सही व्यक्‍त‌ि को सही काम के लिए चुनने की उनमें विलक्षण क्षमता थी । किसी टीम को सुगठित करने, विभिन्न कर्मियों से सबसे अच्छे परिणाम हासिल करना उनकी सबसे बड़ी उपलब्धि थी । वह जिजीविषा से परिपूर्ण थे और नवाचार व उद्यम की प्रेरणा देने में अत्यंतमुखर ।
अपने सभी कर्मियों को अगाध स्नेह करनेवाले, दूरदर्शी, युग -निर्माता जे. आर.डी टाटा के जीवन से प्रेरणा और शिक्षा देनेवाली उपयोगी पुस्तक ।

Yugantarikari by Shubhangi Bhadbhade

SKU: 8173155542

युगांतरकारी

‘गुरुजी, आप इतना भ्रमण करते हैं। हर रोज नए गाँव, नए प्रदेश, नई भाषाएँ, नई राहें। आपको सबकुछ नया या अपरिचित जैसा नहीं लगता?’
‘कभी नहीं; एक बार हिंदुस्थान को अपना समझ लिया तो सभी देशवासी अपने परिवार जैसे लगते हैं। आप भी एक बार मेरे साथ चलें—लेकिन आत्मीयता के साथ—तो देखेंगे कि आपको भी सारा देश अपने घर, अपने परिवार जैसा प्रतीत होगा।’
‘गुरुजी, आप इतनी संघ शाखाओं में जाते हैं, प्रवास करते हैं। क्या आपको लगता है कि पचास वर्षों के पश्‍चात‍् संघ का कुछ भविष्य होगा?’
‘अगले पचास वर्ष ही क्यों, पचास हजार वर्षों के पश्‍चात‍् भी संघ की आवश्यकता देश को रहेगी, क्योंकि संघ का कार्य व्यक्‍ति-निर्माण है। जिस वृक्ष की जड़ें अपनी मिट्टी से जुड़ जाती हैं, भूगर्भ तक जाती हैं, वह कभी नष्‍ट नहीं होता। दूर्वा कभी मरती नहीं, अवसर पाते ही लहलहाने लगती है।
‘संस्कृति व जीवन-मूल्यों पर आधारित, संस्कारों से निर्मित, साधना से अभिमंत्रित संघ अमर है और रहेगा। उसके द्वारा किया जा रहा राष्‍ट्र-कार्य दीर्घकाल तक चलनेवाला कार्य है।’
—इसी पुस्तक से

रा.स्व. संघ के द्वितीय सरसंघचालक श्री माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर ‘गुरुजी’ का जीवन त्यागमय व तपस्यामय था। वे प्रखर मेधा-शक्‍तिवाले, अध्यात्म-ज्ञानी एवं प्रभावशाली वक्‍ता थे। आधुनिक काल के वे एक असाधारण महापुरुष थे।

प्रस्तुत है—आदर्शों, महानताओं एवं प्रेरणाओं से युक्‍त जीवन पर आधारित एक कालजयी उपन्यास।

Yugdrashta Sayajirao by Baba Bhand

SKU: 9789352667185

महाराष्ट्र के एक साधारण देहात के किसान के अनपढ़ बेटे का सहसा बड़ौदा-नरेश बनकर स्वतंत्रता-पूर्व हिंदुस्तान की रियासतों के महाराजाओं का सरताज बन जाना और राजनीति, प्रशासन, समाजनीति तथा संस्कृति के क्षेत्रों में आधुनिकता के पदचिह्न छोड़ जाना किसी अद्भुत आयान से कम नहीं है।
राजतंत्र को प्रजातंत्र में ढालने के लिए जनता को मताधिकार, ग्राम पंचायत की स्थापना, विधि का समाजीकरण, अनिवार्य प्राथमिक शिक्षा, वाचनालय, ग्रंथमाला चलाना, पत्रकारिता, व्यायामशाला जैसी कई योजनाएँ चलाईं। अस्पृश्यता, बँधुआ मजदूरी, बाल-विवाह आदि के विरोध में समाज-सुधारकों का साथ दिया। राज्य में समृद्धि लाने के लिए भूमिसुधार, जलनीति, स्वास्थ्य, व्यवसाय-कौशल, आदिवासियों की सहायता आदि के द्वारा पारदर्शी प्रशासन का आदर्श उपस्थित किया। साहित्य, संगीत, चित्र, नृत्य आदि कलाओं को प्रोत्साहित किया। कई बार यूरोप जाकर आधुनिकता के रूपों की पहचान की और उसे अपनी रियासत में आजमाया। बड़ी बात यह कि अंग्रेजी साम्राज्यवाद के विरोध में आजादी के क्रांतिकारियों की हर तरह से सहायता की।
दस्तावेजों के विपुल भंडार को खँगालकर बाबा भांड ने सयाजीराव महाराज गायकवाड़ के इस औपन्यासिक चरित्र को साकार करते हुए उनके पारिवारिक और आंतरिक भावजीवन का जो संवेदनशील जायजा लिया है, उससे ‘सयाजीराव गायकवाड़ महाराज’ का यह आयान जीवंत हो उठा है।
—निशिकांत ठकार

Yugdrashta Vivekanand by Rajeev Ranjan

SKU: 9788177210873

स्वामी विवेकानंद का भारत में अवतरण उस समय हुआ, जब हिंदू धर्म के अस्तित्व पर संकट के बादल मँडरा रहे थे। पंडा-पुरोहित तथा धर्म के ठेकेदारों के कारण हिंदू धर्म घोर आडंबरवादी तथा पथभ्रष्ट हो गया था। ऐसे विकट समय में स्वामीजी ने हिंदू धर्म का उद्धार कर उसे उसकी खोई प्रतिष्ठा पुन: दिलाई। मात्र तीस वर्ष की आयु में स्वामी विवेकानंद ने शिकागो के विश्वधर्म सम्मेलन में हिंदू धर्म का परचय लहराया और भारत को विश्व के आध्यात्मिक गुरु का स्थान दिलाया।
स्वामीजी केवल संत ही नहीं थे, बल्कि एक प्रखर देशभक्त, ओजस्वी वक्ता, गंभीर विचारक, मनीषी लेखक और परम मानव-प्रेमी भी थे। मात्र उनतालीस वर्ष के अपने छोटे से जीवनकाल में उन्होंने जो काम कर दिखाए, वे आनेवाली पीढ़ियों का शताब्दियों तक मार्गदर्शन करते रहेंगे।
कवींद्र रवींद्र ने एक बार कहा था—“यदि भारत को जानना चाहते हो तो विवेकानंद को पढ़िए।” हिंदू समाज में फैली कुरीतियों का घोर विरोध करते हुए स्वामीजी ने आह्वान किया था—“उठो, जागो और स्वयं जागकर औरों को जगाओ। अपने नर-जन्म को सफल करो और तब तक रुको नहीं जब तक कि लक्ष्य प्राप्त न हो जाए।”
हमें विश्वास है, ऐस किसी विलक्षण तपस्वी के गुणों को आत्मसात् कर अपना तथा राष्ट्र का कल्याण किया जा सकता है—इसी विश्वास को बल देती है एक अत्यंत प्रेरणादायी पुस्तक—‘युगद्रष्टा स्वामी विवेकानंद’।